Saturday, 18 November 2017

नहीं मुश्किल नदी के पार होना

नहीं मुश्किल नदी के पार होना
रहे माँझी  अगर बेदार होना
,
हमारे ख्वाब है पूरे हुए अब
कहो उनसे न फिर मिस्मार होना
,
कहें कैसे  सजन से बात दिल की
झुकी आँखें कहें है आर होना
,
सहारा कौन देता इस जहां में
उठो खुद ही न फिर बेगार होना
,
रखा हमने छुपा कर प्यार दिल में
निगाहों से बयां हैं प्यार होना
,
सितारों से सजी महफिल यहां पर
किसी का आज  है दीदार होना

रेखा जोशी

अधजल गगरी छलकत जाये

है मौन बहती
सरिता गहरी
उदण्ड बहते निर्झर
झर झर झर झर
करते भंग मौन
पर्वत पर
उछल उछल कर
शोर मचाये
अधजल गगरी छलकत जाये

ज्ञानी रहते मौन
यहाँ पर
ज्ञान बाँचते
पोंगें पंडित
कुहक कुहक कर
रसीले मधुर गीत
कोयलिया गाये
पंचम सुर में
कागा बोले
राग अपना ही
अलापता जाये
अधजल गगरी छलकत जाये

मिलेंगे यहाँ
हज़ारों इंसान
आधा अधूरा  ज्ञान लिये
गुण अपने करते बखान
कौन इन्हे अब समझाये 
अधजल गगरी छलकत जाये

रेखा जोशी

Thursday, 16 November 2017

बीत जायेगा समां यह


फूल बगिया में खिलेंगे
ग़म न कर दिन यह फिरेंगे
बीत जायेगा समां यह
फिर खुशी के पल मिलेंगे

रेखा जोशी

Wednesday, 15 November 2017

जिंदगी

हर  पल इक नया रूप  ले कर आती ज़िंदगी
पल पल छोड़ नये पल में ढल जाती  जिंदगी
जीतें हम सभी ख़ुशी और गम के अनेक पल
आँसू   बहाती  या  फिर  गीत  गाती  ज़िंदगी

रेखा जोशी

Sunday, 5 November 2017

टूटते  रिश्ते  यहां  पत्थरों  के  शहर  में

दुनिया की भीड़ में  देखे  बिखरते रिश्ते
ज़िंदगी की भाग दौड़ में सिसकते रिश्ते
टूटते  रिश्ते  यहां  पत्थरों  के  शहर  में
प्रेम  प्रीति  से  ही  तो  हैं  संवरते  रिश्ते

रेखा जोशी

Friday, 3 November 2017

जीवन में धीरज रखना सीख

उड़ना चाहूँ आसमान  में
पाँव पड़ी  जंजीर 
जो चाहूँ वो न पाऊँ
यह कैसी मिली तकदीर 
रहे  अधूरे  सपने  
देखे  जो  मेरी चाहतों  ने  
भाग्यविधाता क्यों लिख दी
मेरे भाग्य में पीर

थी यही तमन्ना
जीवन में कुछ करने की
सपनों पर अपने
पड़ती रही धूल ही धूल
फूलों की चाहत में
मिले हमें शूल ही शूल
लेकिन
आई दिल से आवाज़
न छोड़ना कभी आस
अधूरे सपनें होंगे पूरे
न हो तुम अधीर

छू लोगे तुम
आसमां इक दिन
पंख मिलेंगे ख़्वाबों को
गर खुद पर हो विश्वास
अवश्य होगे कामयाब
बस जीवन में
धीरज रखना सीख

रेखा जोशी







 रेखा जोशी

Thursday, 2 November 2017

मुक्तक

समाये   तुम   पिया  दिल में  हमारे
चले    आओ    पुकारे    हैं   बहारें
मिले जो तुम हमें दुनिया मिली अब
खिला  उपवन  हमें  साजन  पुकारे

रेखा जोशी